Wednesday, September 29, 2010

उड़ान

मैंने आसमान में कुछ पतंगें उड़ाई हैं.
उन्हें खुल कर उड़ने को पूरा गगन दिया.
जितनी जरुरत थी उतनी ही ढील दी.
चाँद-सूरज को छू लेने की आस लिए
पतंगे अपनी मंजिलों की और भाग रहीं थीं.
कि राह में उन्हें ऊँची इमारतों
बिजली के खम्भों ने रोक लिया
अब अधर में लटक कर तूफानी हवा के थपेड़ों से चीथड़ों में बटना
या फिर बारिश के पानी में गलते रहना
क्या यही उनकी नियति होगी?
लेकिन मैंने अपनी आँखें मूँद ली हैं
कान बंद कर रखे हैं
क्योंकि मैंने पतंगों की डोर
अपने दिल के तारों से जोड़ रखे थे .


9 comments:

  1. ऐसी कवितायें रोज रोज पढने को नहीं मिलती...इतनी भावपूर्ण कवितायें लिखने के लिए आप को बधाई...शब्द शब्द दिल में उतर गयी.

    ReplyDelete
  2. आप की रचना 01 अक्टूबर, शुक्रवार के चर्चा मंच के लिए ली जा रही है, कृप्या नीचे दिए लिंक पर आ कर अपनी टिप्पणियाँ और सुझाव देकर हमें अनुगृहीत करें.
    http://charchamanch.blogspot.com


    आभार

    अनामिका

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर् भावनात्मक रचना

    ReplyDelete
  4. सुन्दर रचना...भावपूर्ण..आपको बधाई.

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर अहसास्।

    ReplyDelete
  6. नीता जी अपनेक पूरा बलोग पढलहु..अहाक छोट छोट आलेख आओर सन्स्मरण बहुत सुन्दर अछि.. ई कविता सेहो बहुत भावपूर्ण अछि... खास कय.. अन्तिम पन्क्ति...
    " क्योंकि मैंने पतंगों की डोर
    अपने दिल के तारों से जोड़ रखे थे ."....

    ReplyDelete
  7. behtareen rachna ...
    'vatvriksh' ke liye bhejen rasprabha@gmail.com per parichay aur tasweer ke saath

    ReplyDelete